शुभ मुहूर्त में करें करवाचौथ की पूजा बुधादित्य योग के साथ सवार्थ सिद्धि योग शिव योग बन रहे है आज।



एमपी नाउ डेस्क


धर्म [ARTICLE BY AD SAHU]:- आज करवाचौथ है सुहागन महिला साल भर इस त्यौहार का इंतजार करती है इस व्रत को रखकर महिलाएं अपने पति की सेहत स्वास्थ्य ओर लंबी उम्र के लिए निर्जल उपवास कर भगवान शिव माता पार्वती और चन्दमा की उपासना करती है देश मे प्रायः सभी जगह इस त्यौहार को मनाया जाता है व्रत की शुरुआत ब्रम्हमुहूर्त से शुरू होकर देर रात चंद दर्शन के बाद समाप्त होता है व्रत में घर के बुजुर्गों सास द्वारा सरगी दी जाती है।


करवा चौथ पर मेहंदी लगाना बेहद शुभ माना जाता है. यह सुहाग की निशानी है. मान्यता है कि ये व्रत सबसे पहले माता पार्वती ने भगवान शंकर के लिए रखा था. इसी व्रत की वजह से उन्हें अखंड सौभाग्य का वरदान मिला था।



आज बन रहा है बुधादित्य योग

करवा चौथ पर बुध के साथ सूर्य ग्रह भी विद्यमान होंगे, दोनों की युति बुधादित्य योग बनाएगी, इसके अलावा इस दिन शिवयोग के साथ ही सर्वार्थ सिद्धि, सप्त कीर्ति, महादीर्घायु और सौख्य योग बन रहे हैं. सर्वार्थ सिद्धि में चतुर्थी तिथि प्रारंभ हो रही है, जबकि इस तिथि का अंत मृगशिरा नक्षत्र में होगा.

आज लाल या पीले वस्त्र ही पहनें

व्रती महिलाएं पूजा-पाठ में भूरे और काले रंग को शुभ नहीं माना जाता है. इस दिन लाल रंग के कपड़े ही पहनें क्योंकि लाल रंग प्यार का प्रतीक माना जाता है. आप चाहें तो पीले वस्त्र भी पहन सकते हैं.

करवा चौथ की शुभ मुहुर्त

चतुर्थी तिथि प्रारंभ 4 नवंबर 2020 दिन बुधवार की सुबह 03 बजकर 24 मिनट से

चतुर्थी तिथि समाप्त 5 नवंबर 2020 की सुबह 05 बजकर 14 मिनट तक

करवा चौथ व्रत का समय 4 नवंबर 2020 की सुबह 06 बजकर 35 मिनट से रात 08 बजकर 12 मिनट तक

कुल अवधि 13 घंटे 37 मिनट

पूजा की शुभ मुहुर्त 4 नवंबर की शाम 05 बजकर 34 मिनट से शाम 06 बजकर 52 मिनट तक

कुल अवधि 1 घंटे 18 मिनट

करवा चौथ के दिन चंद्रोदय का समय: रात 08 बजकर 12 मिनट पर

Popular posts from this blog

क्यो स्त्री को देवी का दर्जा दिया गया है कविता मिश्रा DU स्टूडेंट्स और पत्रकार दिल्ली।

शिवतांडव स्तोत्रपाठ कर रातों रात करोड़ो लोगों के दिल मे जगह बनाने वाले बाबा कालीचरण MP NOW EXCLUSIVE

भव्य होगी 10 दिवसीय श्रीरामलीला