-->

नाट्यकला सिखाती है जीवन संस्कार- डॉ अमर सिंह

नाट्यकला सिखाती है जीवन संस्कार- डॉ अमर सिंह


एमपी नाउ डेस्क


■ माटी के रंग किरदार के संग का पांचवा सत्र.....


छिंदवाड़ा। माटी के रंग को सहेजे हुए प्रारम्भ हुई ऑनलाइन कार्यशाला दिन प्रतिदिन विचारों एवं अनुभवों से सराबोर हो रही है। किरदार सचिव ऋषभ स्थापक ने बताया कि किरदार संस्थान द्वारा आयोजित कार्यक्रम 'माटी के रंग किरदार के संग' के माध्यम से जिले के अनुभवशील लोगो का लाभ नई पीढ़ी को प्राप्त हो रहा है। ओम मंच पर अस्तित्व के सहयोग से आयोजित कार्यशाला में पांचवे सत्र में विशेष अतिथि शासकीय महाविद्यालय चांद के अंग्रेजी के विभाग प्रमुख व व्यक्तित्व विकास के जिला समन्वयक डॉ. अमर सिंह रहे।
उन्होंने कहा कि नाटक का उद्देश्य केवल मनोरंजन नहीं है इससे बच्चे ना केवल शिक्षित होते हैं बल्कि उनमें व्यक्तित्व का सकारात्मक विकास भी होता है। हमारा साहित्य प्राचीन काल से ही बहुत समृद्ध रहा है। जिसके माध्यम से हम नाट्यकला के माध्यम से समाज को ज्ञानवर्द्धक संदेश देते रहे है।
 डॉ सिंह ने अपने संबोधन में कहा कि नाटक व्यक्तित्व निर्माण में एक बेहतरीन भूमिका अदा करता है। रंगमंच आपको संस्कारो के साथ ही अनुजों को प्रेम एवं अग्रजों का आदर भी सिखाता है। जीवन मे आधारभूत सिद्धांतो का निर्माण करना, स्वावलंबी बनाना एवं अनुशासन लाना नाट्यकर्म की महत्वपूर्ण विशेषता है। नाट्यकर्म को प्रारम्भ करने के लिए अपने अहंकार का त्याग आवश्यक होता है एवं बाहरी शैक्षणिक योग्यता के गर्व को छोड़कर इस विधा में प्रवेश करना आवश्यक है साथ ही नाट्य विधा संगठन एवं नेतृत्व का विकास भी आपके भीतर करती है। जीवन एक रंगमंच की तरह ही होता है जिसमे सभी अलग अलग किरदार निभा रहे है दुनिया से चले जाते है । डॉ सिंह ने पुरजोर तरीके से बाल शिक्षा में संगीत की तरह नाट्य शिक्षा के सिलेबस को शामिल करने की बात कही। जिससे छोटे शहरों के प्रतिभागियों को मुंबई जैसी जगहों में चुनोतियो का सामना करने में परेशानी न हो। कार्यशाला में रंगगुरु विजय आनंद दुबे एवं मार्गदर्शक नितिन जैन 'नाना' द्वारा प्रतिभागियों के उत्साह वर्धन हेतु विचार व्यक्त किये गए। अंत मे कार्यशाला निर्देशक डॉ पवन नेमा एवं संयोजक शिरीन आनंद दुबे ने अतिथियों का आभार व्यक्त किया। ऑनलाइन कार्यशाला में तकनीति सहायक विक्रम टीडीआर रहे। आयोजन में जिले के वरिष्ठ रंगकर्मी अरविंद रंजन कुण्डू एवं केशव कैथवास भी उपस्थित रहे।


mpnow.in

Iklan Tengah Artikel 1

Iklan Tengah Artikel 2

Iklan Bawah Artikel